‘इलेक्ट्रॉनिकी आपके लिए’ इलेक्ट्रॉनिक्स, कम्प्यूटर विज्ञान एवं नये तकनीकी के विषयों की आधारभूत पत्रिका है। यह हिन्दी में प्रकाशित एकमात्र पत्रिका है जो नए-नए परिवर्तनों शोध तथा अविष्कारों से आम पाठक, विशेषकर बच्चों को अवगत कराती है।पत्रिका का प्रकाशन 1988 से निरंतर हो रहा है। इस मासिक पत्रिका की प्रसार संख्या किसी भी विज्ञान पत्रिका से अधिक है। आईसेक्ट के सभी 18,000 केंद्रों में पढ़े जाने के साथ-साथ महाविद्यालयीन छात्र, विज्ञान संस्थानों आदि में यह बहुत ही उपयोगी और लोकप्रिय है। 

पुरस्कार

- रामेश्वर गुरु पुरस्कार  

- भारतेंदु पुरस्कार 

- राजभाषा शील्ड सम्मान

इलेक्ट्रॉनिक्स, कम्प्यूटर, विज्ञान एवं नई तकनीक की हिन्दी में प्रकाशित होने वाली एकमात्र पत्रिका है जिसे उक्त तीनों पुरस्कार मिले। इन पुरस्कार और सम्मान समारोह में इस बात को विशेष रूप से रेखांकित किया गया कि अपने कुशल संपादन से इस पत्रिका ने विज्ञान को सरलीकृत किया है और उपरोक्त सभी विषयों को रोचक ढंग से आम पाठक तक पहुँचाया है।

विज्ञान लेखकों का मंच 

देश के प्रायः सभी लोकप्रिय विज्ञान लेखक इससे जुड़े हैं तथा कई युवा विज्ञान लेखकों को पत्रिका ने मंच भी प्रदान किया है। जिसमें डॉ. जयंत विष्णु नार्लीकर, डॉ. मनोज पटैरिया, कालीशंकर, अवधेश कुमार श्रीवास्तव, राकेश शुक्ला, डॉ. अरविन्द मिश्र, डॉ. डी.डी. ओझा, डॉ. पी.के. मुखर्जी, डॉ. विजय कुमार उपाध्याय, डॉ. दिनेश मणि, डॉ. डी. बालसुब्रमण्यम, शुकदेव प्रसाद, डॉ. ओमप्रकाश शर्मा, शशि शुक्ला, डॉ. एन.के. तिवारी, मनोहर नोतानी, राजीव रंजन उपाध्याय, कल्पना कुलश्रेष्ठ, संगीता चतुर्वेदी, ललित कोटियाल, संतोष शुक्ला, अनुराग सीठा, जी.डी. सूथा, डॉ. के.आर.के.मोहन, जे.कोनेटी राव, सी.एल. शर्मा, आलोक हल्दर, बृजमोहन गुप्ता, जीशान हैदर ज़ैदी, हरीश गोयल, डॉ. कृष्ण कुमार, डॉ. नकुल पराशर, प्रवीण कुमार, पंकज मौर्य, यतीन चतुर्वेदी, संजीव गुप्ता, मनीष मोहन गोरे, बालेन्दु शर्मा ‘दाधीच’, धर्मेंद्र कुमार मेहता, सुभाष चंद्र लखेड़ा, संजय गोस्वामी, अभिषेक मिश्र इत्यादि के नाम प्राथमिक रूप से दर्ज है। रेखांकित किया जा सकता है कि इनमें अधिकांश लेखक देश-देशान्तरों में सम्मानित हुए हैं।